मनी लांड्रिंग मामला: CBI ने सत्येन्द्र जैन की संपत्ति को लेकर किया खुलासा

मनी लांड्रिंग मामला: CBI ने सत्येन्द्र जैन की संपत्ति को लेकर किया खुलासा

मनी लांड्रिंग मामला: CBI ने सत्येन्द्र जैन की संपत्ति को लेकर किया खुलासानई दिल्ली: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने चार मुखौटा कंपनियों के माध्यम से करोड़ों रुपये अवैध धन को वैध किया और राजधानी में 200 बीघा जमीन खरीदी। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के सूत्रों ने बताया कि जैन के खिलाफ आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्तिअर्जित करने (डीए) के मामले की गई जांच के दौरान यह पता चला है कि वर्ष 2010 से लेकर 2016 के बीच ‘आप’ नेता ने राजधानी के औचंदी बॉर्डर, बवाना, कराला और मोहम्मद माजवी गांवों में 200 बीघा जमीन खरीदी।

सूत्रों के अनुसार जैन, उनकी पत्नी पूनम जैन, अजीत प्रसाद जैन, वैभव जैन, सुनील कुमार जैन और अंकुश जैन इन चार मुखौटा कंपनियों के निदेशक रहे हैं। ये कंपनियां हैं-अकिंचन डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, प्रयास इंफो सॉल्यूशन, इंडो मेटल इम्पेक्स प्राइवेट लिमिटेड तथा मंगलायतन प्रोजेक्ट्स। जैन दंपत्ति की हिस्सेदारी इन कंपनियों में एक तिहाई है। इन मुखौटा कंपनियों ने कोलकाता की 30 कंपनियों के माध्यम से काले धन को सफेद किया, जिनका संचालन राजेन्द्र बंसल, जिवेन्द्र मिश्रा और अभिषेक चौखानी के हाथों होता था। सीबीआई ने अप्रैल 2017 में ‘प्रारंभिक जांच’(पीई) शुरू की थी। जांच के दौरान इस बात की पुष्टि हुई कि 2015-16 के दौरान इन्होंने चार करोड़ 63 लाख रुपये के काले धन सफेद किये। 

आयकर विभाग ने जैन दंपत्ति से मांगी जानकारी

जैन के खिलाफ आरोप है कि 2010-12 के बीच भी इन्होंने 11 करोड़ 78 लाख रुपए की मनी लांड्रिंग की थी। सूत्रों ने दावा किया कि सार्वजनिक जीवन में आने के बाद भी जैन दंपती ने आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक सपत्ति अर्जित की है। मुखौटा कंपनियों में एक तिहाई की हिस्सेदारी के हिसाब से भी यदि जैन दंपत्ति की कमाई का हिसाब लगाया जाये तो भी जैन या उनकी पत्नी ने एक करोड़ 62 लाख रुपए की कमाई के संबंध में कोई स्पष्ट स्रोत नहीं बताया है। आयकर विभाग ने भी इस राशि के बारे में दंपत्ति जैन से लेखा-जोखा मांगा था, जिसके खिलाफ जैन दिल्ली  उच्च न्यायालय पहुंचे थे, जिसने गत मई में यह अपील ठुकरा दी थी। 

13 thoughts on “मनी लांड्रिंग मामला: CBI ने सत्येन्द्र जैन की संपत्ति को लेकर किया खुलासा

  1. Greate pieces. Keep posting such kind of info on your site.
    Im really impressed by your site.
    Hi there, You’ve done an incredible job. I’ll definitely
    digg it and in my opinion recommend to my
    friends. I am sure they will be benefited from
    this site.

  2. I’m really enjoying the theme/design of your site.
    Do you ever run into any internet browser compatibility issues?

    A couple of my blog audience have complained about my blog not operating correctly in Explorer but
    looks great in Firefox. Do you have any advice to help
    fix this issue?

  3. I was very happy to find this page. I want
    to to thank you for ones time for this particularly fantastic read!!
    I definitely enjoyed every part of it and I have you saved as a favorite
    to check out new things in your blog.

  4. It is perfect time to make some plans for the future and it’s time to be happy.
    I’ve read this post and if I may just I desire to recommend you few fascinating
    issues or tips. Maybe you can write next articles relating
    to this article. I want to learn more things about it!

  5. Oh my goodness! Impressive article dude! Thank you, However
    I am experiencing issues with your RSS. I don’t know the reason why I can’t join it.

    Is there anybody else having the same RSS issues?

    Anyone who knows the solution can you kindly
    respond? Thanx!!

  6. Hi there! This article could not be written much better!
    Reading through this post reminds me of my previous roommate!
    He continually kept preaching about this. I most certainly will send this
    information to him. Fairly certain he will have
    a great read. Thank you for sharing!

  7. Hello there, just became alert to your blog through Google, and found that
    it is truly informative. I am gonna watch out for brussels.
    I’ll be grateful if you continue this in future.
    Numerous people will be benefited from your writing.
    Cheers!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *