स्वतंत्रता दिवसः पाकिस्तान से ये शख्स लेकर आया था कटी लाशों से भरी ट्रेन, देखिए

स्वतंत्रता दिवसः पाकिस्तान से ये शख्स लेकर आया था कटी लाशों से भरी ट्रेन, देखिए

1947 का गदर वो खौफनाक मंजर था, जिसे भूलना भी चाहो तो मुमकिन नहीं। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जानिए उस शख्स के बारे में जो पाकिस्तान से कटी लाशों से भरी ट्रेन लेकर आया था।
स्वतंत्रता दिवसः पाकिस्तान से ये शख्स लेकर आया था कटी लाशों से भरी ट्रेन, देखिए

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बुजुर्ग बाल कृष्ण गुप्ता व सोहन सिंह की गदर की याद ताजा हो गई। वह बताते हैं कि यहीं से ट्रेन पाकिस्तान जाया करती थी और सन 1947 में दोनों देशों के बंटवारे के बाद बिगड़े हालात के दौरान दोनों देशों के कई लोग मरे थे।

रेलवे से सेवानिवृत हुए चीफ कंट्रोलर बाल कृष्ण गुप्ता ने बताया कि दोनों देशों का जब बंटवारा हुआ था उस समय वो रेलवे में गार्ड थे। वही पाकिस्तान से इसी रेलमार्ग से लाशों से भरी ट्रेन हुसैनीवाला रेलवे स्टेशन से होती हुई फिरोजपुर के छावनी रेलवे स्टेशन पहुंची थी।

बाल कृष्ण गुप्ता बताते हैं कि उन्हें रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने आदेश दिया था कि पाकिस्तान के गंडा सिंह रेलवे स्टेशन पर भारतीय लोग फिरोजपुर आने का इंतजार कर रहे हैं। यह कहते हुए उन्हें ट्रेन लेकर पाकिस्तान भेजा गया, जब ट्रेन से भारतीयों को लेकर हुसैनीवाला रेलवे स्टेशन के लिए रवाना हुए तो रास्ते में पाकिस्तान के कुछ शरारती तत्वों ने उनपर हमला बोल दिया।

बाल कृष्ण गुप्ता बताते हैं कि ट्रेन में कई लोगों को तेजधार हथियार से काट दिया गया। ट्रेन खून से लथपथ थी। किसी तरह कुछ लोगों को बचाकर फिरोजपुर छावनी रेलवे स्टेशन पहुंचे। जब भी उन्हें ये दिन याद आता है उनकी आंखों से आंसू छलक उठते हैं। बुजुर्ग किसान सोहन सिंह ने बताया कि सन 1947 के गदर में इसी ट्रैक पर दौड़ने वाली ट्रेन पर पाकिस्तान की तरफ से कटी हुई लाशें भारत आई थी।

बाल कृष्ण गुप्ता बताते हैं कि ट्रेन तो खून से लथपथ थी ही इस ट्रैक पर भी लोगों का खून बहा है। इसलिए यह ऐतिहासिक ट्रैक है। बहुत कम लोग जानते होंगे कि हुसैनीवाला स्थित समाधि स्थल 1960 से पहले पाकिस्तान के कब्जे में था। जन भावनाओं को देखते हुए 1950 में तीनों शहीदों की समाधि स्थल पाक से लेने की कवायद शुरू हुई। करीब 10 साल बाद फाजिल्का के 12 गांव व सुलेमान की हेड वर्क्स पाकिस्तान को देने के बाद शहीद त्रिमूर्ति से जुड़ा समाधि स्थल भारत को मिल गया।

68 thoughts on “स्वतंत्रता दिवसः पाकिस्तान से ये शख्स लेकर आया था कटी लाशों से भरी ट्रेन, देखिए

  1. I do not know if it’s just me or if everyone else experiencing problems with
    your blog. It looks like some of the written text on your posts
    are running off the screen. Can somebody else please provide feedback and let me know if this is happening to them too?
    This may be a issue with my web browser because I’ve had this happen previously.

    Many thanks

  2. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time
    a comment is added I get four e-mails with the
    same comment. Is there any way you can remove me from that service?
    Thanks!

  3. First off I want to say wonderful blog! I had a quick question in which I’d like to ask if you do not mind. I was interested to know how you center yourself and clear your mind before writing. I have had a difficult time clearing my thoughts in getting my thoughts out there. I truly do enjoy writing but it just seems like the first 10 to 15 minutes are wasted simply just trying to figure out how to begin. Any ideas or tips?

  4. I was curious if you ever considered changing the layout of your site? Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way of content so people could connect with it better. Youve got an awful lot of text for only having 1 or two pictures. Maybe you could space it out better?|

  5. Thank you for another informative blog. The place else may I get that kind of info written in such a perfect means?
    I’ve a venture that I am simply now operating on, and I’ve been on the glance out for such information.

  6. Hi, I do believe this is a great web site. I stumbledupon it 😉 I am going to return once again since i
    have saved as a favorite it. Money and freedom is the best way to change, may you be rich and
    continue to guide others.

  7. Hi there! I just wanted to ask if you ever have any problems with hackers?
    My last blog (wordpress) was hacked and I
    ended up losing many months of hard work due to no data backup.

    Do you have any solutions to prevent hackers?

  8. Have you ever thought about creating an e-book or guest authoring on other blogs?
    I have a blog centered on the same information you discuss and
    would love to have you share some stories/information.
    I know my audience would appreciate your work. If you’re even remotely interested, feel free to
    shoot me an e-mail.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *