अनिद्रा (Insomnia) हार्ट अटैक (heart failure) के खतरे को बढ़ाती है

अनिद्रा (Insomnia) हार्ट अटैक (heart failure) के खतरे को बढ़ाती है

एक अध्ययन के अनुसार, अनिद्रा से पीड़ित लोगों में कोरोनरी धमनी की बीमारी(coronary artery disease), दिल का दौरा (heart failure) और स्ट्रोक ( stroke) का खतरा बढ़ सकता है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, पिछले अवलोकन अध्ययनों (observational studies) में अनिद्रा (insomnia) के बीच एक संबंध पाया गया है, जो सामान्य आबादी के 30 प्रतिशत तक को प्रभावित होता है और हृदय रोग (heart disease) और हार्ट स्ट्रोक (heart stroke) का खतरा बढ़ जाता है।

अध्ययन के प्रमुख लेखक सुसाना लार्सन, (स्वीडन में करोलिंस्का संस्थान में एसोसिएट प्रोफेसर) के अनुसार – “ये अवलोकन संबंधी अध्ययन (observational studies) यह निर्धारित करने में असमर्थ थे कि क्या अनिद्रा (insomnia) एक कारण है, या अगर यह सिर्फ उनके साथ जुड़ा हुआ है “

जर्नल सर्कुलेशन (journal Circulation) में प्रकाशित शोध (research) में कहा गया है कि हृदय रोग और स्ट्रोक के साथ 1.3 मिलियन प्रतिभागियों को चार प्रमुख सार्वजनिक अध्ययनों और समूहों से आकर्षित किया गया था।

शोधकर्ताओं ने पाया कि अनिद्रा के लिए आनुवांशिक वेरिएंट (genetic variants) कोरोनरी धमनी की बीमारी (coronary artery disease), दिल दौरा (heart failure) और इस्केमिक स्ट्रोक (ischemic stroke) – विशेष रूप से बड़ी धमनी स्ट्रोक से काफी अधिक मात्रा में जुड़े थे।

अनिद्रा के अंतर्निहित कारण की पहचान करना और इसका इलाज करना बहुत ही महत्वपूर्ण है।

लार्सन (researcher) ने कहा की “नींद एक व्यवहार है जिसे नई आदतों और तनाव प्रबंधन द्वारा बदला जा सकता है,” । अध्ययन (study) के लिए एक लिमिटेशन यह है कि परिणाम अनिद्रा (insomnia) के बजाय अनिद्रा के लिए एक आनुवंशिक रूपांतर लिंक (genetic variant link) का प्रतिनिधित्व करते हैं।